Home Uncategorized ईपीसीए : 5 नवंबर तक स्कूल के ग्राउंड मे होने वाली गतिविधियो...

ईपीसीए : 5 नवंबर तक स्कूल के ग्राउंड मे होने वाली गतिविधियो को कम करने के लिए कहा गया

344

नई दिल्ली। भारत की  राजधानी दिल्ली में वायु की गुणवत्ता और बेकार होने के बीच पर्यावरण प्रदूषण (रोकथाम व नियंत्रण) प्राधिकरण (ईपीसीए) ने शुक्रवार को स्कूलों से बच्चों का प्रदूषण जोखिम कम करने के लिए खुले में होने वाली गतिविधियां और खेलों को पांच नवम्बर तक कम करने को कहा है। ईपीसीए ने साथ ही सार्वजनिक प्राधिकारियों को लोगों को सुचना भी जारी करने को कहा है कि वे जहां तक संभव हो प्रदूषण से बचें।
 भूरे लाल ईपीसीए अध्यक्ष  ने कहा, ‘‘लोगों को सुचना दिया गया है कि जब तक प्रदूषण स्तर कम नहीं हो जाता वे खुले में योग नहीं करें और बच्चों, वृद्ध व्यक्तियों और कमजोर व्यक्तियों का विशेष ध्यान रखा जाए।’’ भूरे लाल ने कहा , ‘‘यह गंभीर स्थिति है और मैं आपके निजी हस्तक्षेप की उम्मीद कर रहा हूं ताकि जारी निर्देशों को को कठोर ढंग  से लागू किया जाए और इसका पूरा अनुपालन हो।
’’ दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को कहा कि उनकी सरकार ने राष्ट्रीय राजधानी में प्रदूषण की ‘काफी गंभीर  स्थिति के मद्देनजर स्कूलों को पांच नवम्बर तक बंद करने का निर्णय किया है।  भूरे लाल ने कहा कि स्कूलों को सलाह दी गई है कि वे खुले में होने वाली अपनी सभी गतिविधियों और खेलों को पांच नवम्बर तक कम कर दें ताकि बच्चे कम से कम प्रदूषण से प्रभावित हो । प्रदूषण का स्तर शुक्रवार को खतरनाक स्तर पर पहुंच गया।
 ईपीसीए ने दिल्ली..एनसीआर क्षेत्र में जनस्वास्थ्य के लिए आपात स्थिति घोषित की है और निर्माण गतिविधियों पर पांच नवम्बर तक रोक लगा दी है। क्षेत्र में प्रदूषण का स्तर ‘‘बेहद गंभीर’’ श्रेणी में पहुंच जाने के बीच ईपीसीए ने शर्दी के मौसम में पटाखे जलाने पर भी रोक लगा दी। राजधानी दिल्ली में छायी जहरीली धुंध शुक्रवार सुबह और गहरी हो गई। लाल ने कहा कि प्रदूषण का स्तर शुक्रवार सुबह ‘‘बेहद गंभीर’’ स्थिति में पहुंच गया लेकिन बाद में ‘‘गंभीर’’ में आ गया।
 
आधिकारिक आंकड़े के अनुसार शुक्रवार दोपहर एक बजे समग्र  एक्यूआई 480 रहा था जो कि ‘‘गंभीर’’ श्रेणी में आता है। एक्यूआई 0-50 के बीच ‘अच्छा’, 51-100 के बीच ‘संतोषजनक’, 101-200 के बीच ‘मध्यम’, 201-300 के बीच ‘खराब’, 301-400 के बीच ‘अत्यंत खराब’, 401-500 के बीच ‘गंभीर’ और 500 के पार ‘बेहद गंभीर एवं आपात’ माना जाता है। इससे पहले ईपीसीए ने दो नवम्बर तक शाम छह से सुबह 10 बजे के बीच में निर्माण कार्यों पर रोक लगा दी थी। अब दिन में भी कोई निर्माण कार्य नहीं होगा।